Home बिहार भितहा ÷पीपी तठबंध के 23.40 किमी पर क्षतिग्रस्त हुए ठोकर

भितहा ÷पीपी तठबंध के 23.40 किमी पर क्षतिग्रस्त हुए ठोकर

363

बिहार के पo चo जिला से रिपोर्ट
भितहा ÷पीपी तठबंध के 23.40 किमी पर क्षतिग्रस्त हुए ठोकर ठकराहां। एप्र। पीपी तटबंध के दूलारी प्वाइंट पर बना ठोकर धंस गया। नवनिर्मित ठोकर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकाहै। जिसके चलते दुलारी पर नदी आक्रामक हो गई है। नतीजतन संवेदक अब दोहरे लूटखसोट के खेल में जुटा है। गौरतलब है कि दुलारी बाढ नियंत्रण डिविजन दो के अन्तर्गत अंतर्गत है। जहां एंटीरोजन का कार्य ऋषि ट्रेडर्स के द्वारा किया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि एंटीरोजन कार्य में संवेदक ने अभियंताओं को प्रभाव में लेकर काफी धांधली किया है। बोल्डर कोरेटिंग में अत्यधिक व्याडस के माध्यम से बोल्डर लुट का खेल हुआ है। ग्रामीणों ने बताया कि एंटीरोजन के बोल्डर लुट खसोट में विभागीय एसडीओ,जेई समेत कार्यपालक अभियंता की संलिप्ता जबकि सर्वविदित हो गई थी,फिर भी विभाग द्वारा त्वरित एक्शन नही किया गया।  गौरतलब है कि जलस्तर में मामूली वृद्धि मात्र में नव निर्मित ठोकर सह बोल्डर कैरेटिंग न केवल धंस गया,बल्कि कैरेट भी बिखरने गए। और नही तो विभागीय निर्णय का फायदा उठाकर संवेदक फ्लड फाइटिंग के नाम पर भी अपनी मंसूबा को अंजाम देने के फिराक में है। ग्रामीण रमेश प्रसाद,प्रशुराम यादव,किशोर यादव आदि ग्रामीणों ने इस ओर अभियंता प्रमुख का ध्यान आकृष्ट कराके तत्काल उच्च स्तरीय जांच और संवेदक समेत धांधली में संलिप्त अभियंताओं के विरुद्ध कडी कार्रवाई करने की मांग किए है। इधर विभागीय सूत्र बोल्डर कैरेटिंग की ध्वस्त होने की मुख्य वजह एनसी घोटाला बता रहे है। बोल्डर की कैरेंटिग एनसी से बेस बनाकर किया जाना था,लेकिन संवेदक ने एनसी के प्रयोग में भी धांधली कराई है।उल्लेखनीय है कि दूलारी प्वाइंट अति संवेदनशील प्वाइंट है। फिर भी संवेदक और अभियंताओं ने एंटीरोजन में मनमानी व धांधली करने से बाज नही आए हैं। इसबीच पूछने पर कार्यपालक अभियंता हरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि कार्य कराने में लापरवाही नही हुई है। कैरेटिंग सह ठोकर के इंड प्वाइट यानि समीप में बैकरोलिंग के चलते नदी गहराई अधिक हो जाने से ठोकर धंसा है।

रिपोर्टिंग पo चoजिला Beauro cheif Sushil Kumar mishra Bharat News tv