Home देश विदेश भारत में आज भी प्रचलित है भामाशाह योजना

भारत में आज भी प्रचलित है भामाशाह योजना

39

करौली-: भारत में आज भी प्रचलित है भामाशाह योजना ऐसा ही एक मामला है करौली जिले के गांव गंगा राम का पुरा जहां पर एक व्यक्ति की सड़क दुर्घटना में आकस्मिक मौतें हुई तभी कुछ भामाशाहों ने मिलकर दीपावली के अवसर पर गांव के लिए अपूरणीय क्षति एवं मरने वाली की 5 बच्चियां जिसमें से तीन अविवाहित हैं दो की शादी हो चुकी है जिनके लिए भामाशाह में करीब 215000 से अधिक राशि एकत्रित कर सहयोग प्रदान किया है इन भामाशाह को भगवान हर सुख प्रदान करें जिन्होंने अपने हाथ आगे बढ़ा कर एक आर्थिक परिवार की मदद की आर्थिक परिवार की मदद करते हुए एवं गरीब परिवार की अविवाहित बच्चियों को देखते हुए मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाएं और भी लोगों से विशेष आग्रह है कि अपने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाएं और इस गरीब परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए हाथ आगे बढ़ाएं और ₹200000 की बच्चियों की एफ़॰डी का निर्णय किया गया बाकी राशि परिवार की घरेलू जरूरतों हेतु छोड़ दी गई है सहयोग राशि ₹214586 जमा हुए जिसमें करीब 40 कर्मचारी उपस्थित होकर सहयोग राशि प्रदान की गई और पीड़ित परिवार की मृत आत्मा को शांति दे गईरिपोर्ट – खैमराज मीना करौली